Home उत्तराखंड Gopeshwar: राज्य की स्थापना के बाद देश के पहले गांव माणा में...

Gopeshwar: राज्य की स्थापना के बाद देश के पहले गांव माणा में पहली बार मतदान होगा, इसलिए ग्रामीण लोग उत्साहित हैं।

16
0

राज्य की स्थापना के बाद भोटिया जनजाति के लोगों ने पहली बार अपने पैतृक गांव माणा में मतदान करेंगे। गांव में पहली बार ईवीएम होगा। ग्रामीण क्षेत्र चुनाव को लेकर उत्साहित हैं।

जिला निर्वाचन कार्यालय ने माणा गांव के प्राथमिक विद्यालय भवन को पोलिंग बूथ बनाया है। यहां इन दिनों मरम्मत का काम चल रहा है। माणा के अलावा नीती घाटी के भोटिया जनजाति के ग्रामीण भी पहली बार पैतृक गांवों के मतदान केंद्रों में वोट डालेंगे। नीती घाटी और माणा में 3,884 मतदाता हैं, जो अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

भोटिया लोग नीती और माणा घाटी में रहते हैं। ये शीतकाल में बर्फबारी के चलते जिले के निचले भागों में रहते हैं, लेकिन ग्रीष्मकाल में अपने मूल गांवों में वापस जाते हैं। यह लोग नीती घाटी के नंदप्रयाग, तेफना, देवलीबगड़, बिरही और माणा गांव के ग्रामीण जिले के घिंघराण गांव में रहते हैं।

नीती घाटी में सुरांईथोटा से नीती तक नौ गांव हैं, जबकि माणा घाटी में माणा गांव माइग्रेशन वाला है। राज्य बनने के बाद पहली बार हुआ है कि चारधाम यात्रा के दौरान यहां विस उपचुनाव हो रहा है। नीती गांव में 220 मतदाता, माणा में 824, मलारी में 599, कैलाशपुर में 210, गमशाली में 836, झेलम में 393, कोषा में 243, द्रोणागिरि में 368, जुम्मा में 141 मतदाता हैं। माणा गांव के ग्राम प्रधान पीतांबर मोल्फा का कहना है कि मतदान को लेकर ग्रामीणों में उत्साह है। लोग अपने पैतृक गांव में ही मतदान करेंगे।

1996 में हुआ था लोकसभा का उपचुनाव
1996 के अप्रैल से मई तक तीन चरणों में लोकसभा उपचुनाव हुए। उस समय, सीमांत गांवों में रहने वाले लोग बैलेट पेपर से मतदान करते थे। अप्रैल में नीती और माणा घाटी के ग्रामीण अपने सीमांत गांवों में लौटते हैं, जबकि चारधाम यात्रा नवंबर में निचले क्षेत्रों में लौटती है।