Home उत्तराखंड Uttarakhand Weather: तीन दिनों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट, भूस्खलन की...

Uttarakhand Weather: तीन दिनों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट, भूस्खलन की संभावना जानें

16
0

आज प्रदेश के अधिकांश जिलों में हल्की से मध्यम बारिश होने की उम्मीद है। राजधानी में भी हल्के बादल छाए रहेंगे और कुछ स्थानों पर गर्जन के साथ बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने कहा कि राज्य के पिथौरागढ़ बागेश्वर, नैनीताल, उत्तरकाशी, चमोली, रुद्रप्रयाग, अल्मोड़ा, चम्पावत, देहरादून, टिहरी और पौड़ी जिलों में हल्की से मध्यम बारिश होने की उम्मीद है।

देहरादून जिले में मिलाजुला मौसम रहने के साथ ही 30 से 40 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चलेंगी। मौसम विभाग के अनुसार 27, 28 और 30 जून को प्रदेश के अधिकांश जिलों में भारी से भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट किया है। इस दौरान पहाड़ों पर कहीं हल्का तो कहीं भारी भूस्खलन होने की आशंका है।

तापमान में दो डिग्री की गिरावट दर्ज की गई

रास्ते भी इससे प्रभावित हो सकते हैं। ऐसे में, खासतौर पर चारधाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थयात्रियों को पूर्वानुमान के अनुरूप सावधान रहने की सलाह दी गई है। रविवार को देहरादून में बारिश होने से अधिकतम तापमान लगभग दो डिग्री गिर गया।

देहरादून की राजधानी में सर्वाधिक 34.8 डिग्री सेल्सियस का तापमान रहा। न्यूनतम 26.5 डिग्री सेल्सियस था। जबकि पंतनगर में सबसे अधिक 37.6 डिग्री सेल्सियस और सबसे कम 28.2 डिग्री सेल्सियस थे, मुक्तेश्वर में सबसे अधिक 23.8 डिग्री सेल्सियस और सबसे कम 16.4 डिग्री सेल्सियस था, और नई टिहरी में सबसे अधिक 27.5 डिग्री सेल्सियस था।

दून में 5.3 एमएम बारिश, कई जगहों पर जलभराव

रविवार को देहरादून के कई इलाकों में बारिश होने से अधिकतम तापमान में दो डिग्री गिरावट दर्ज की गई। दोपहर बाद हुई बारिश से जगह-जगह जलभराव हुआ। नालियां चोक होने से बारिश का पानी सड़कों पर भर गया। जिससे लोगों को आवाजाही करने में परेशानी झेलनी पड़ी।

मौसम विभाग के मुताबिक देहरादून में 5.3 एमएम बारिश रिकार्ड की गई।दोपहर बाद आंधी के साथ अचानक बारिश शुरू हो गई। नालियां चोक होने से कई इलाकों में बारिश का पानी सड़कों पर भर गया। लक्खीबाग चौकी के सामने जलभराव होने से पानी दुकानों में घुस गया। सर्वे चौक के समीप आईआरडीटी ऑडिटोरियम के मुख्यद्वार पर भी जलभराव हुआ। परेड ग्राउंड और पटेल नगर बाजार क्षेत्र में भी जगह-जगह सड़कों पर पानी भरने से लोगों को आवाजाही में परेशानी झेलनी पड़ी।