Home उत्तराखंड Haldwani में जल संकट: पेयजल किल्लत पर पारा चढ़ने से अधिशासी अभियंता...

Haldwani में जल संकट: पेयजल किल्लत पर पारा चढ़ने से अधिशासी अभियंता का घेराव; व्यक्तिगत प्रदर्शन

20
0

बनभूलपुरा वार्ड 32 और 33 के निवासी पेयजल की कमी को लेकर जल संस्थान कार्यालय पहुंचे। लोगों ने संस्थान के खिलाफ तीव्र प्रदर्शन किया। लोगों ने जल संस्थान को मुर्दाबाद कहते हुए नारे लगाए। पिछले तीन महीने से क्षेत्र में पेयजल की कमी है, उन्होंने कहा। पेयजल नहीं मिलने से बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं। लोग दूर से पानी भर रहे हैं।

पेयजल किल्लत से क्षेत्र के दोनों वार्डो में लगभग 5000 लोग प्रभावित हो रहे हैं, क्षेत्र के निवासी इशरत अली ने बताया। संस्थान को कई बार समस्याओं से अवगत कराया गया, लेकिन कुछ भी नहीं हुआ। आज लोगों की शांति का बांध टूट गया। यहां शोएब अंसारी, कल्लू, इकबाल सिद्दीकी, इरशाद सिद्दीकी, सिकंदर, किश्वर अली, इम्तियाज हुसैन और अन्य लोग उपस्थित थे।

जल संस्थान और सिंचाई के खराब नलकूपों की मरम्मत का कार्य जारी हल्द्वानी। गर्मी में गौला की पेयजल लाइनों में लीकेज के अलावा जल संस्थान के नलकूपों के खराब होने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार को शाह फार्म और खेड़ा का नलकूप खराब होने से दमुवाढूंगा और गौलापार के लोगों को पानी के लिए परेशान होना पड़ा। वहीं सिंचाई के हिम्मतपुर नकैल और बागजाला के खराब नलकूपों की मरम्मत का कार्य भी नलकूप खंड की ओर से जारी रहा। इस दौरान प्रभावित घरों तक जल संस्थान की ओर से पानी बांटा गया। ईई आरएस लोशाली ने बताया कि शुक्रवार को जल संस्थान की ओर से खराब नलकूपों की मरम्मत का कार्य किया गया। जबकि प्रभावित घरों तक टैंकरों के माध्यम से आपूर्ति कराई गई।

पेयजल किल्लत को लेकर अधिशासी अभियंता का किया घेराव फोटो- संवाद न्यूज एजेंसी हल्द्वानी। शुक्रवार को निवर्तमान पार्षद रोहित कुमार नें शहर में हो रही पेयजल किल्ल्त को लेकर जल संस्थान कार्यालय में अधिशासी अभियंता आरएस लोशाली का घेराव किया। उन्होनें जल्द से जल्द शहर में हो रही पेयजल समस्या का निदान करने की मांग की कहा की भीषण गर्मी में शहर के कई इलाकों में पानी की किल्लत बनी हुई है। बनभूलपुरा, इंदिरा नगर, दमुवाढूंगा, गौजाजाली, राजपुरा, टनकपुर रोड आदी क्षेत्रों में लोग पेयजल समस्या से जूझ रहे हैं। लोग दो किलोमिटर दूर से पानी भर कर लाने को विवश हैं। पानी के अभाव में बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं।

पानी का इंतजाम करने में लोगों का बहुमूल्य समय खर्च हो रहा है। विभाग सिर्फ कुछ टैंकर भेजकर अपनी कर्तव्यों से भाग रहा है। उसने कहा कि विभाग की सभी योजनाएं लिखित में हैं। शहर में पेयजल की कमी से लोग परेशान हैं। उसने कहा कि आज वह सिर्फ चार लोगों के साथ जल संस्थान आया है, क्योंकि वह आचार संहिता का पालन करता है। वह जनता के साथ मिलकर संस्थान के खिलाफ उग्र आंदोलन करेंगे अगर समस्या को जल्द ही हल नहीं किया जाता।

दिन भर बिजली की कटौती से परेशान रहे उपभोक्ता
हल्द्वानी शहर और ग्रामीण इलाकों में बिजली जाने से लोगों के परेशान होने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार को भी कमलुआगांजा और कठघरिया क्षेत्र में बार बार बिजली जाने की समस्या बनी रही। वहीं लालकुंआ और गौलापार के भी कई इलाकों में कुछ देर के लिए कटौती होने पर उपभोक्ताओं को परेशानी झेलनी पड़ी। वहीं जब इस संबंध में विभाग का पक्ष लेने के लिए ऊर्जा निगम के अधिकारियों से संपर्क किया गया तो फोन रिसीव नहीं किया गया।

जल संस्थान और सिंचाई के खराब नलकूपों की मरम्मत का कार्य जारी
गर्मी में गौला की पेयजल लाइनों में लीकेज के अलावा जल संस्थान के नलकूपों के खराब होने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार को शाह फार्म और खेड़ा का नलकूप खराब होने से दमुवाढूंगा और गौलापार के लोगों को पानी के लिए परेशान होना पड़ा। वहीं सिंचाई के हिम्मतपुर नकैल और बागजाला के खराब नलकूपों की मरम्मत का कार्य भी नलकूप खंड की ओर से जारी रहा। इस दौरान प्रभावित घरों तक जल संस्थान की ओर से पानी बांटा गया। ईई आरएस लोशाली ने बताया कि शुक्रवार को जल संस्थान की ओर से खराब नलकूपों की मरम्मत का कार्य किया गया। जबकि प्रभावित घरों तक टैंकरों के माध्यम से आपूर्ति कराई गई।

जल निगम ने लाइन तो बिछाई लेकिन पानी नहीं पहुंचाया तीन गांवों के लोग प्यासे

तीन गांवों के लोग पिछले दो सालों से हल्द्वानी शहर से दूर पीपलपोखरा गांव में पेयजल की कमी से गुजर रहे हैं। गांव में जेजेएम योजना के तहत पेयजल लाइन बिछने के बाद भी पानी नहीं मिल रहा है। जल जीवन मिशन की योजना के तहत गांव में पिछले तीन महीने से पेयजल लाइन बिछाने का काम चल रहा है, लेकिन ग्रामीण अभी भी पानी की कमी से परेशान हैं।

लोगों से बातचीत-तलिया स्रोत से पानी आता था गर्मी में स्रोत सूखने के बाद अब समस्या शुरु हो गई है। जल जीवन मिशन के तहत कार्य तो हो रहा है लेकिन तीन महीने से टेस्टिंग कार्य ही पूरा नहीं हो पाया है समस्या हो रही है।
-गोपाल सिंह मेहरा, पीपलपोखरा।

गांव में कहीं भी पानी की व्यवस्था नहीं है। पीने के लिए गुजरौड़ा के नलकूप से कभी कभी मिलता था वो भी गर्मी में कम हो गया है। पेयजल योजना कार्य भी लंबे समय से पूरा नहीं हुआ है। पानी के लिए परेशान हैं।
-डूंगर सिंह, पीपलपोखरा।

लंबे समय से गांव में पानी नहीं है कोई भी विभाग लोगों की समस्या सुनने को तैयार नहीं हैं। लाइनों में कार्य के लिए गांव में सड़क पर जहां-तहां गढ्ढे बना रखे हैं लेकिन तीन माह से पानी की व्यवस्था नहीं हो पाई है।
– भुवन भट्ट, पीपलपोखरा।

पानी समस्या को लेकर हमने मुख्यमंत्री पोर्टल में भी लिखकर दे दिया है लेकिन हल नहीं हो पाया। सरकारी विभागाें की हीलाहवाली और सुस्ती के कारण पेयजल योजना में कार्य 90 फीसदी पूरा होने के बाद भी समस्या हो रही है।
– कैलाश चंद्र जोशी, पीपलपोखरा।

पेयजल लाइन का कार्य 90 फीसदी हो चुका है। योजना के तहत नलकूप और ओवरहेड टैंक का निर्माण कार्य हो चुका है। लाइनों की टेस्टिंग की जा रही है। गांव में जेजेएम की लाइनों के तहत पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है।
– विवेक भट्ट, सहायक अभियंता, पेयजल निगम।