Home उत्तराखंड Haldwani: पेयजल संकट से आक्रोशित महिलाओं ने रोकी आवाजाही और अपना क्रूर...

Haldwani: पेयजल संकट से आक्रोशित महिलाओं ने रोकी आवाजाही और अपना क्रूर चेहरा दिखाया; बुग्गियां लगाकर दिखाया

24
0

हल्द्वानी शनिबाजार क्षेत्र में पिछले महीने से पेयजल की कमी है। महिलाओं ने इससे गुस्साई होकर सड़क पर बुग्गियां खड़ी कर आजवाही ठप कर दी। महिलाओं की आवाजाही रोकने पर बनभूलपुरा पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उन्हें कुछ समझाया। इसके बाद महिलाएं सड़क से बाहर निकल गईं, जिससे आवाजाही सुचारु हो गई। समस्या को हल करने के लिए जल संस्थान ने लाइन बिछाने का काम शुरू किया है।

पानी की समस्या को लेकर बृहस्पतिवार को शनिबाजार क्षेत्र में शकीला और नाजरा बेगम के नेतृत्व में महिलाओं ने सड़क पर प्रदर्शन किया। उन लोगों ने शनिबाजार रोड पर बुग्गियां लगाकर आवागमन को रोक दिया। महिलाओं ने बताया कि क्षेत्र में पिछले महीने से पानी नहीं आया है। इस विषय पर विभागीय अधिकारियों से बातचीत की गई, लेकिन कोई हल नहीं निकला। बहुत गर्मियों में उन्हें पेयजल की कमी है। पानी के लिए लोगों को दर-दर भटकना पड़ रहा है। बनभूलपुरा पुलिस ने महिलाओं को किसी तरह शांत कर दिया और समस्या को हल करने का भरोसा दिलाया। उन्हें समाधान नहीं मिलने पर हिंसक विद्रोह की धमकी दी है। एई रविंद्र कुमार ने बताया कि क्षेत्र में विभाग सेदो टैंकरों से आपूर्ति कराई जा रही है। उन्होंने बताया कि मौके पर जेई भुवन भट्ट की टीम की ओर से सर्वे किया गया है।

शनिबाजार इंदिरानगर क्षेत्र में पेयजल समस्या को हल करने के लिए लटूरिया आश्रम से 30 मीटर पाइपलाइन बिछाकर आपूर्ति कराने का प्रयास किया जा रहा है। लाइन बिछाने का कार्य शुरू करा दिया है।

सरकार ने उपभोक्ताओं की समस्याओं को देखते हुए सभी रोस्टरों को बंद कर दिया है। इसके बावजूद ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में बिजली आने-जाने की समस्या जारी है। बृहस्पतिवार को गौलापार, कमलुवागांजा, कठघरिया, टीपीनगर और लालकुआं में लगातार बिजली जाने की समस्या हुई। उपभोक्ता इससे परेशान हो गए। EEO ग्रामीण डीडी पांगती ने कहा कि रोस्टर फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। छोटे फॉल्ट को दूर करते हुए बिजली काट दी गई।

बागजाला के बाद अब खेड़ा का नलकूप खराब, गहराया पेयजल संकट

सिंचाई विभाग और जल संस्थान के नलकूप क्षतिग्रस्त हो गए हैं। बृहस्पतिवार को खेड़ा का नलकूप खराब हो गया, जिससे ढाई हजार लोगों को पानी की कमी हुई। वहीं, बृहस्पतिवार को नलकूप खंड ने हिम्मतपुर नकायल, बागजाला के नलकूप की मरम्मत की जारी रखी।

ईई अंचित रमन ने कहा कि दोनों नलकूप जल्द ही ठीक हो जाएंगे। हर दिन जल संस्थान से 15 टैंकरों से पानी बांटा जाता है, लेकिन लोगों को पर्याप्त पानी नहीं मिलता। बृहस्पतिवार को कुसुमखेड़ा विकासनगर फेज-2 के निवासी गिरीश भट्ट ने बताया कि उनकी कॉलोनी में पिछले दो महीने से पेयजल की कमी है। उन्होंने कहा कि उनकी कॉलोनी में ३० परिवार रहते हैं, लेकिन गर्मी में पानी की कमी है। दमुवाढूंगा जेके पुरम में रहने वाले सतपाल और नवाबी रोड में रहने वाले त्रिलोक चंद्र भट्ट ने बताया कि उनके क्षेत्र में पिछले कई दिनों से पेयजल की कमी है। एई रविंद्र कुमार ने बताया कि बृहस्पतिवार को दमुवाढूंगा, कुसुमखेड़ा, बच्चीनगर में 15 टैंकरों सेईई अंचित रमन ने कहा कि दोनों नलकूप जल्द ही ठीक हो जाएंगे। हर दिन जल संस्थान से 15 टैंकरों से पानी बांटा जाता है, लेकिन लोगों को पर्याप्त पानी नहीं मिलता। बृहस्पतिवार को कुसुमखेड़ा विकासनगर फेज-2 के निवासी गिरीश भट्ट ने बताया कि उनकी कॉलोनी में पिछले दो महीने से पेयजल की कमी है। उन्होंने कहा कि उनकी कॉलोनी में ३० परिवार रहते हैं, लेकिन गर्मी में पानी की कमी है। दमुवाढूंगा जेके पुरम में रहने वाले सतपाल और नवाबी रोड में रहने वाले त्रिलोक चंद्र भट्ट ने बताया कि उनके क्षेत्र में पिछले कई दिनों से पेयजल की कमी है। एई रविंद्र कुमार ने बताया कि बृहस्पतिवार को दमुवाढूंगा, कुसुमखेड़ा, बच्चीनगर में 15 टैंकरों से