Home उत्तराखंड Uttarkashi Forest Fire: इसरो के जियो पोर्टल से वनाग्नि की घटनाओं पर...

Uttarkashi Forest Fire: इसरो के जियो पोर्टल से वनाग्नि की घटनाओं पर नज़र, ऐसा काम

23
0

वन विभाग पहले वनाग्नि की सूचनाओं के लिए पूरी तरह से क्रू स्टेशनों पर निर्भर था, लेकिन अब जियो पोर्टल भी वनाग्नि घटनाओं की निगरानी करते हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा निर्मित जियो पार्क भुवन की मदद से उत्तरकाशी वन प्रभाग जंगल की आग पर नजर रखता है। यह जियो पोर्टल सेटेलाइट डेटा का उपयोग करके वनाग्नि घटनाओं की सटीक जानकारी दे सकता है।

उत्तरकाशी वन क्षेत्र में छह रेंज हैं। इनमें शामिल हैं बाड़ाहाट, मुखेम, डुंडा, धरासू, टकनौर और गंगोत्री रेंज। 15 फरवरी से 15 जून तक चलने वाले फायर सीजन में यहां भारी मात्रा में आग लगती है। पूर्व में, विभाग वनाग्नि की सूचना के लिए क्रू स्टेशनों पर निर्भर था।

हाल ही में विभाग ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा बनाया गया जियो पोर्टल भुवन का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है. यह जंगल की आगों के अलावा चक्रवात, सूखा, भूकंप, बाढ़ और भूस्खलन जैसी घटनाओं की स्थिति की सटीक जानकारी देता है। जब मास्टर कंट्रोल रूम में तैनात वन रक्षक जियो पोर्टल भुवन खोला कर वन फायर पर क्लिक करता है, तो भारतीय मानचित्र पर वास्तविक समय में वन फायर की घटनाएं गुलाबी डॉट से दिखाई देती हैं।

जियो पोर्टल भुवन के बारे में जानिए

इसे इसरो द्वारा बनाया गया गूगल मैप्स का भारतीय संस्करण भी कहते हैं। यह सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन उपयोगकर्ताओं को पृथ्वी की सतह का 2 डी/3 डी चित्र देखने देता है। पोर्टल को भारत को देखने के लिए बनाया गया है, जो क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ समाधान प्रदान करता है। यह एक मीटर तक के स्थानिक रिज़ॉल्यूशन के साथ भारत के स्थानों की व्यापक कल्पना देता है, जो अन्य वर्चुअल ग्लोब सॉफ्टवेयर से अलग है।

वनाग्नि घटनाओं की भी तकनीकी मदद से निगरानी की जा रही है। भुवन, इसरो का जियो पोर्टल, इसमें बहुत सहायक है। हालाँकि, वर्तमान में लगातार बारिश होने से वनाग्नि की घटनाओं में कमी आई है।

– डीपी बलूनी, डीएफओ, उत्तरकाशी वन प्रभाग।