Home उत्तराखंड सूरज की धूम: नमामि गंगे के घाट मई में ही डूबे, क्योंकि...

सूरज की धूम: नमामि गंगे के घाट मई में ही डूबे, क्योंकि नदियों का जलस्तर बढ़ने लगा और ग्लेशियर तेजी से पिघल रहे हैं।

19
0

आग की गर्मी से ग्लेशियर तेजी से पिघल रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप नदियों का जलस्तर भी बढ़ने लगा है। अलकनंदा और मंदाकिनी नदी का जलस्तर बढ़ने से रुद्रप्रयाग में नामामि गंगे परियोजना के तहत बनाए गए सभी घाट जलमग्न हो गए हैं। तेज वेग से बहने वाली दोनों नदियों का जलस्तर बरसात के मौसम के समान है। वहीं, अन्य स्थानों पर मौसम की बदहाली से प्राकृतिक जलस्रोतों का पानी तेजी से कम हो रहा है।

बृहस्पतिवार को मुख्यालय में 38 डिग्री का तापमान भी था। मई में जिले में पड़ रही भारी गर्मी से घाटी क्षेत्र ही नहीं, ऊपरी पहाड़ी इलाकों में रहने वाले लोग बेहाल हैं। सुबह से चटक तेज धूप से केदारघाटी के गुप्तकाशी, ऊखीमठ, फाटा, सोनप्रयाग और गौरीकुंड में भी आमजन और यात्री परेशान हो रहे हैं। गुप्तकाशी के पुराने वचन सिंह पंवार कहते हैं कि पहली बार पहाड़ों के ऊपरी हिस्सों में सूरज की तपन असहनीय हो रही है। रमेश जमलोकी उत्तराखंडी का कहना है कि पहाड़ों में पर्यटन और तीर्थाटन के नाम पर जो मानव जाम लग रहा है, वह सबसे बड़ा कारण है गर्मी बढ़ने का। पहाड़ की ठंडक को कम करने के लिए वातानुकूलित होटल, रेस्तरां और लॉज बनाए जा रहे हैं।

वनाग्नि से आर्द्रता घटी

डॉ. विजयकांत पुरोहित, हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय के उच्च शिखरीय पादप शोध संस्थान के निदेशक, बताते हैं कि इस वर्ष गर्मी अपने चरम पर है, जो प्रकृति और पर्यावरण के लिए अच्छा नहीं है। उनका कहना था कि शीतकाल में पर्याप्त बारिश और बर्फबारी नहीं होने और वनाग्नि की घटनाओं के बढ़ने से वातावरण में आर्द्रता घटी है। इसलिए गर्मी का प्रकोप बढ़ा है। नदियों का जलस्तर बढ़ना अच्छा नहीं है क्योंकि गर्मी बढ़ने से ग्लेशियर तेजी से पिघल रहे हैं।

केदारनाथ में तेज धूप से बेहाल यात्री
इस बार 11750 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ में भी मौसम बदल गया है। सुबह 9 बजे के बाद यहां तेज धूप है। दोपहर तक तापमान 15-18 डिग्री रहेगा। गढ़वाल मंडल विकास निगम के कर्मचारी गोपाल सिंह रौथाण ने बताया कि यात्रियों का कहना है कि केदारनाथ में मैदानी क्षेत्रों की तुलना में धूप की तपन अधिक महसूस होती है। केदारनाथ पुनर्निर्माण से जुड़े सेवानिवृत्त कैप्टन सोवन सिंह बिष्ट ने कहा कि इस बार मौसम बीते वर्ष की तुलना में काफी बदला हुआ है। बारिश सिर्फ हो रही है और ठंड रात को भी कम है।