Home उत्तराखंड ऋषिकेशः को ऑपरेटिव बैंक को वित्तीय वर्ष 2023-24 में प्राप्त हुआ रु०...

ऋषिकेशः को ऑपरेटिव बैंक को वित्तीय वर्ष 2023-24 में प्राप्त हुआ रु० 125.45 लाख का सकल लाभ 

21
0

उत्तराखण्ड को ऑपरेटिव बैंक लि० ऋषिकेश की 24 वीं वार्षिक सामान्य निकाय की बैठक हुई। ये बैठक बैंक अध्यक्ष  चिंतामणी सेमवाल  की अध्यक्षता में होटल तुलसी निकट यात्रा बस स्टैन्ड में सम्पन्न हुई। बैठक में जहां एक ओर अध्यक्ष ने बैंक के सम्मानित प्रतिनिधियों, कर्मचारी, अधिकारी, अतिथियों व पत्रकार बंधुओं का स्वागत किया, वहीं उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि बैंक के 7259 अंशधरकों के सहयोग से बैंक निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर है।

अध्यक्ष  ने सभी अंशधरकों से बैंक में बचत खाता खोलने का अनुरोध किया है जिससे उनका लाभांश स्वतः ही उनके खाते में चला जाएगा यदि 03 वर्ष तक कोई सदस्य अपना लाभांश नहीं ले जाता तो वह 03 वर्ष बाद फोरफीट हो जाता है,उन्होंने उन खाताधारकों को भी संदेश दिया है जिनका खाता बैंक में खुला हुआ है परंतु वे उसे परिचालित (संचालित) नहीं कर रहे है, 10 वर्षों तक अपने खाते में लेन-देन ना करने पर उनकी जमा राशि भारतीय रिजर्व बैंक के DEAF खाते में चली जाती है, तो वे अपने खाते को नियमित कर दें जिससे परेशानियों से बचा जा सके। उन्होंने साथ ही बताया कि सभी सदस्यों की सहमति पर 8.50% लाभांश अपने अंशधरकों को देने की घोषणा की है। अध्यक्ष जी ने बैंक प्रगति पर प्रकाश डालते हुए सभी सदस्यों, कर्मचारियों व अधिकारियों के सहयोग के लिय आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया।

बैंक सचिव  एस. एस. राणा ने बताया कि बैंक को वित्तीय वर्ष 2023-24 में रु० 125.45 लाख का सकल लाभ प्राप्त हुआ है, सभी प्रविधानों के बाद शुद्ध लाभ रु० 88.69 लाख रहा है, बैंक द्वारा इसी वित्तीय वर्ष में 02 नई शाखाएं अदूरवाला व बंजारावाला देहरादून में खोल दी गई है, तथा बैंक वित्तीय वर्ष 2024-25 में 01 नई शाखा देहरादून में शीघ्र खुलने जा रही है. बैंक के सभी वित्तीय आँकड़े सदन में प्रस्तुत करते हुए सचिव ने कहा है कि वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए रु० 892.00 लाख का बजट रखा गया है जिसको सदन ने सहर्ष स्वीकृति दी है।

बैंक वित्तीय सुद्रढता के सभी मानक पूरा करता है, बैंक में वे सभी सुविधाएं उपलब्ध है जो अन्य व्यावसायिक बैंकों में हैं केवल हमारे बैंक में मोबाईल बैंकिंग नहीं है जिस का लाइसेन्स शीघ्र ही भारतीय रिजर्व बैंक से ले लिया जाएगा। बैंक सचिव ने बताया कि बैंक रु० 3.00 लाख तक के ऋणों को 24 घंटों में स्वीकृति दे रहा है तथा शाखाओं में बुजुर्गों के लिए अलग से कॉउन्टर की व्यवस्था की गई है,

बैठक में बैंक उपाध्यक्ष  के. एस. कैतूरा, संचालक  बी.पी.एस राणा, राजू लाल, मुकेश शर्मा, महेश चिटकारिया, वी. के, सक्सेना,  पुष्पा पुंडीर, मधुमती बिनजोला,  राजेन्द्र लिंगवाल, बजरंग बिजल्वाण, वीर सिंह रावत, नागेन्द्र पोखरियाल, दिनेश रावत, हीरामणि रतुड़ी, वीरेंद्र चमोली, डा० आर. एस पुंडीर, राही कपाड़िया, मनमोहन सिंह असवाल, सुशील बिजल्वाण, जसपाल भण्डारी, भगवती प्रसाद सकलानी, राजेन्द्र पयाल, शिव प्रसाद खैकरियाल, आनंद सिंह सजवाण, कर्ण सिंह बर्तवाल, के. एस नेगी, हेमलता बहन,  दिनेश प्रसाद नौटियाल, प्यारे लाल जुगरान, प्रकाश जोशी, प्रेम तिवारी, रमेश उनियाल, यशपाल सिंह, बैंक अधिकारी  आशीष संगर, बी. डी. बेलवाल, पुनीत मित्तल, विशाल भट्ट, अजय नेगी, मयंक अग्रवाल, कु० रूपिका राणा, अरविन्द कुड़ियाल, दीपक गैरोला, प्रीतम दास अरोडा आदि उपस्थित रहे।