Home खास खबर Laaptaa Women: स्नेहा देसाई की कहानी, उन्हीं की जुबानी: पटकथा के लिए...

Laaptaa Women: स्नेहा देसाई की कहानी, उन्हीं की जुबानी: पटकथा के लिए सॉफ्टवेयर नहीं, किस्सेबाजी का ज्ञान चाहिए

39
0

‘लापता लेडीज’, जो आमिर खान ने बतौर निर्माता बनाया था, अब ओटीटी पर पहुंच चुकी है। फिल्म की पटकथा भी बहुत अच्छी हो रही है। फिल्म जगत में भी स्नेहा देसाई के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। यही कारण था कि स्क्रीनराइटर्स एसोसिएशन के लंबे समय बाद मुंबई के वेदा कुनबा थियेटर में वह लेखकों से मिलने पहुंची। स्नेहा ने इस दौरान चलने वाली चर्चा में फिल्म लेखन की तकनीकों पर चौंकाने वाली बातें भी बताईं. उन्होंने खुलकर बताया कि उन्हें फिल्म “लापता लेडीज” मिली कैसे।किस्से बहुत रोचक हैं। स्नेहा देसाई ने अब तक कहानी बताई है,

पति के मनोरंजन क्षेत्र में

फिल्मों से मेरा दूर दूर तक कोई संबंध नहीं है। मैंने स्नातक और परास्नातक की पढ़ाई मुंबई के प्रतिष्ठित कॉलेजों में से एक नरसी मोनजी इंस्टीट्यूट से की। साथ ही, कॉलेज पास करने के बाद मुझे एक विदेशी कंपनी से अच्छा प्रस्ताव भी मिला। फिर उन्हीं दिनों मेरी शादी हुई। रंगमंच पर संगीत से जुड़ा हुआ मेरा पति आलाप देसाई और उनका पूरा परिवार है। उनका कहना था कि हमारा पूरा परिवार गीत-संगीत और रंगमंच से जुड़ा हुआ है, इसलिए घर का कोई एक सदस्य दफ्तर में काम करेगा, इससे काम थोड़ा कम हो जाएगा। मैंने सिर्फ नौकरी करने का विचार अपने मन से बाहर निकाल दिया।

यह भी दिलचस्प कहानी है अगर लिखने की शुरुआत कहां से हुई? मुंबई में गुजराती नाटकों का जो क्रेज है, वह सब जानते हैं। इन नाटकों में मुझे कई बार कुछ समझ आता था और मैं अपने मित्रों से इस बारे में बात करता था। जब मैं शादी करने के बाद गर्भवती हो गई, मेरे दोस्तों ने कहा कि जब विचार इतने अच्छे हैं तो लिखती क्यों नहीं? शुरू में डर लगा, लेकिन लोगों ने जो लिखा उसे सराहा, और फिर बात चली। साथ ही, इन्हें लिखने में मुझे बहुत मज़ा आने लगा।

नाटक देखने के बाद आतिश कपाड़िया और जे डी मजीठिया, जो टेलीविजन धारावाहिक बना रहे थे, ने मुझे धारावाहिक लिखने का प्रस्ताव दिया. वहीं से मैंने “वागले की दुनिया” और “पुष्पा इंपॉसिबल” लिखना शुरू किया। टेलीविजन लेखकों को अक्सर फिल्मों में काम नहीं मिलता। टीवी और फिल्म के लिए लिखने वालों के बीच एक दीवार बन गई है। साथ ही, ओटीटी ने इस दीवार को और मजबूत कर दिया है, कहते हुए कि टीवी वाले ओटीटी नहीं बना सकते हैं।

खैर, आमिर खान के बेटे जुनैद की पहली फिल्म, “महाराज” में भाषागत बारीकियों को ठीक करने के लिए मुझे बुलाया गया क्योंकि मैं गुजराती पृष्ठभूमि से आता था. धारावाहिकों और नाटकों में काम कर चुका था। फिल्म बनाने वाली कंपनी यशराज फिल्म्स ने मुझे धीरे-धीरे संवाद लेखन में भी लगाया, जिससे मेरा आमिर खान से संपर्क हुआ। 1903 में बंबई में बनी फिल्म “महाराज” की कहानी है। ये जुनैद की पहली फिल्म है और मेरी एंट्री इसी दौरान हुई क्योंकि इसमें उनके किरदार का लहजा है।

यह बात कोरोना महामारी के दौरान हुई है जब आमिर खान ने मुझे फोन किया। उन्हें सीधे पूछा गया कि क्या मैं उनकी वर्तमान कहानी पर पटकथा लिखना चाहूंगा या नहीं। आमिर खान ने सिनेस्तान स्टोरी राइटिंग कंपटीशन में फिल्म ‘लापता लेडीज’ की कहानी चुनी थी। ये बिप्लव गोस्वामी की कथा है। विभिन्न अन्य लेखकों ने भी इस कहानी पर पटकथाएं लिखीं। साथ ही, मुझे बताया गया था कि पटकथा स्वीकार की जाएगी, हालांकि इसकी गारंटी नहीं है, लेकिन अगर मेरी पटकथा पर फिल्म नहीं बनती, तो भी मेरी मेहनत का भुगतान किया जाएगा। मैंने जो लिखा, सौभाग्य से आमिर और किरण राव दोनों को पसंद आया।

जैसा कि आपने पूछा, फिल्म के संवाद, जैसे सास-बहू या देवरानी-जेठानी दोस्त क्यों नहीं हो सकते? तो मैंने इन सब को अपने आसपास से लिया है। हमारे देश में किचन पॉलिटिक्स बहुत दरजे की होती है, और आज तक कोई नहीं समझ पाया है कि क्यों ऐसा होता है। फिल्म में मंजू माई बोलती है, “अच्छे घर की बेटी”, कि देश में लड़कियों के साथ बुरा व्यवहार हो रहा है, मेरे साथ भी हुआ है। कपड़े भी मेरे ऊपर प्रतिबंधित रहे। उम्र में बड़े लड़कों से बातचीत करना मुश्किल था।