Home उत्तर प्रदेश गर्मी का कहर: यूपी में मौतों का सिलसिला जारी है: 189 लोगों...

गर्मी का कहर: यूपी में मौतों का सिलसिला जारी है: 189 लोगों की मौत, 19 मतदान कर्मियों की भी।

21
0

भयानक गर्मी का प्रकोप मौतों का सिलसिला जारी रखता है। शुक्रवार को भी राज्य में गर्मी और लू से 189 लोग मारे गए। इनमें 19 मतदानकर्मी और सुरक्षाकर्मी हैं जो शनिवार को होने वाले मतदान के लिए चुनाव ड्यूटी पर हैं। वहीं, बिहार में भी दस मतदानकर्ता मारे गए।

शुक्रवार को सबसे गर्म स्थान 48.2 डिग्री के साथ मथुरा और कानपुर रहे। राज्य के अधिकांश शहरों में पारा 45 डिग्री से अधिक था। तेज धूप के साथ लू भी हुआ। चुनाव ड्यूटी में 43 डिग्री गर्मी में वाराणसी और आसपास 18 लोगों की मौत हो गई। सब लोगों ने सातवें चरण का चुनाव कराने के लिए अपनी पोलिंग पार्टियों के साथ जाने की तैयारी की। मिर्जापुर में अकेले ही आठ पुलिसकर्मी और एक सुरक्षाकर्मी की मौत हो गई है।

वाराणसी में चुनाव कार्य में लगे तीन मतदानकर्मी मारे गए हैं। सोनभद्र में भी एक सुरक्षा कर्मी और तीन मतदान कर्मी की मौत हो गई है। जिलाधिकारी चंद्रविजय सिंह ने कहा कि मौत के कारणों की अभी पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन सारे लक्षण लू लगने से मौत की तरह लग रहे हैं। चंदौली में दो पुलिसकर्मी मारे गए हैं। इसके अलावा, रायबरेली में एक स्ट्रांग रूम में भदोही निवासी दरोगा की मौत हो गई।

रात भी गर्म है: लखनऊ में पारा 45.8 डिग्री था। रातों में भी हरदोई, कानपुर, वाराणसी, चुर्क, प्रयागराज, झांसी, सुल्तानपुर और फुरसतगंज गर्म हैं। न्यूनतम तापमान ३० से ३९ डिग्री सेल्सियस था। राज्य के कई इलाकों में बारिश होने की उम्मीद है, वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अतुल कुमार सिंह ने बताया। धूल की आंधी चली जा सकती है।

यहां इतनी मौतें: बुंदेलखंड और कानपुर समेत आसपास के जिलों में भीषण गर्मी से शुक्रवार को 47 लोगों की मौत हो गई। इनमें हमीरपुर में 21, फतेहपुर में आठ, चित्रकूट में छह, कानपुर और महोबा में चार-चार, बांदा में तीन और फर्रुखाबाद में एक बच्चे की जान चली गई। घर वालों का कहना है कि यह सभी गर्मी के चलते उल्टी-दस्त और बुखार से पीड़ित थे। वाराणसी, आजमगढ़ और मिर्जापुर मंडल के नौ जिलों में 68 लोगों की मौत हो गई। प्रयागराज और आसपास के जिलों में 36 लोगों की भी गर्मी से जान चली गई। अवध में गर्मी से 20 लोगों की मौत हो गई।

चिकित्सकों ने बताया कि गर्मी से तबीयत खराब होने से मौत हुई। इसमें चार-चार जिले शामिल हैं: रायबरेली और अयोध्या में चार-चार, बहराइच में तीन, श्रावस्ती में पांच, सीतापुर में एक, गोंडा में दो और बाराबंकी में एक। झांसी में चार, मुरादाबाद में एक हेड कांस्टेबल, पीलीभीत में एक कपड़ा व्यवसायी और बदायूं और अलीगढ़ में एक-एक व्यक्ति गर्मी से मर गए हैं।

गोरखपुर-बस्ती मंडल में 10 लोगों की जान चली गई। इसमें गोरखपुर और बस्ती में तीन-तीन, देवरिया में दो और संतकबीरनगर में एक की मौत हुई है। मरने वालों में गाजीपुर निवासी एक कांस्टेबल और बागपत व एटा निवासी दो होमगार्ड के अलावा चुनाव ड्यूटी में आए दो निजी वाहन चालक भी शामिल हैं।