Home उत्तर प्रदेश Alliance : ‘ठकाठक’ ने यूपी में दिखाया रंग, एनडीए को दूसरे चरण...

Alliance : ‘ठकाठक’ ने यूपी में दिखाया रंग, एनडीए को दूसरे चरण में क्लीन स्वीप..। शेष समय में एक कठिन चुनौती

30
0

यूपी के मतदाताओं ने “टकाटक” का वादा किया। एनडीए को सिर्फ दूसरे चरण में ही स्पष्ट स्वीप मिला। शेष समय में भारत गठबंधन ने उसे कड़ी चुनौती दी। वह कई बार भाजपा से आगे रहा। स्पष्ट है कि इस चुनाव में हिंदू-मुस्लिम कार्ड नहीं चला। मुफ्त में राशन और योजनाओं पर विपक्ष के संविधान-बेरोजगारी और खातों में एक लाख भेजे जाने का वादा हावी रहा।

भाजपा ने पहले चरण में मोदी की गारंटी और लाभार्थीपरक योजनाओं पर अधिक फोकस किया। इसके साथ ही मुझे पता चला कि हिंदू-मुस्लिम करना असम्भव था। इसलिए उसके बाद के चरणों में मंगलसूत्र छीनने और मुस्लिमों को आरक्षण देने का मुद्दा भाजपा नेताओं ने खूब गर्माने की कोशिश की, लेकिन यूपी में यह अपेक्षा के अनुरूप चलते हुए नहीं दिखाई दिए।

पहले चरण की आठ सीटों में एनडीए को सिर्फ बिजनौर और पीलीभीत ही मिलीं। पांच सीटें इंडिया को मिलीं और एक सीट आजाद समाज पार्टी के चंद्रशेखर ने जीती। दूसरे चरण की सभी आठ सीटें एनडीए ने जीतीं। तीसरे चरण में सपा ने भाजपा का विजय रथ फिर थाम दिया। इस चरण में भाजपा को चार तो सपा को 6 सीटें मिलीं।

भाजपा को चौथे चरण में आठ सीटें मिली, जबकि सपा को चार और कांग्रेस को एक सीट मिली. तब तक भारत के नेतृत्व को पता चल चुका था कि बेरोजगारी, संविधान और आरक्षण के मुद्दे लोगों के दिलोदिमाग पर जादू कर रहे हैं, इसलिए उन्होंने इसे और भी जोर से उठाना शुरू कर दिया।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का वादा कि वे गरीबों और बेरोजगारों के खातों में हर महीने 85,000 रुपये डाल देंगे, भी काम करने लगा। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके टकटक पर प्रतिक्रिया दी, तो राहुल ने मंच से कहा कि वे मोदी से डरते नहीं हैं। राहुल को किस मुद्दे पर फोन करना है पता है। यह सब कारण था कि सपा ने पांचवें चरण में सात सीटें और कांग्रेस ने तीन सीटें जीतीं। जबकि भाजपा को चार सीटें मिलीं।

छठा चरण इंडिया के लिए और भी अधिक फलदायी रहा। सपा को 10 और कांग्रेस को एक सीट मिली, जबकि भाजपा ने तीन सीटें जीतीं। हालांकि सातवें चरण में एनडीए के तहत भाजपा को छह और अपना दल को एक सीट मिली। वहीं, सपा ने छह सीटें जीतीं।