Home उत्तराखंड Uttarkashi Bus Accident: घायलों ने आपबीती बताई..।जब यात्री चिल्लाते रहे, चालक बस...

Uttarkashi Bus Accident: घायलों ने आपबीती बताई..।जब यात्री चिल्लाते रहे, चालक बस को तेजी से दौड़ाता रहा

16
0

बस चालक बहुत तेजी से दौड़ रही थी। हमें भय था। बस में सवार सभी लोग चिल्ला-चिल्लाकर चालक को बस की गति को कम करने के लिए कह रहे थे, लेकिन चालक ने नहीं सुना और बेफ्रिक होकर पहाड़ी सड़कों पर दौड़ाता रहा। बस चालक की लापरवाही से खाई में गिर गई।

नैनीताल के लालकुआं निवासी मोहनचंद्र और यूएस नगर की कल्पना रावत ने बताया कि वे मंगलवार को सुबह तीन बजे गंगोत्री धाम जाकर भटवाड़ी लौट रहे थे. दोनों जिला अस्पताल में भर्ती हैं। जब बस जाम में फंसी तो चालक बस को बहुत तेजी से दौड़ा रहा था। उन्हें और अन्य लोगों ने चालक से बार-बार बस की गति कम करने की मांग की। लेकिन वह ऐसा नहीं करता था। चढ़ाई के बाद उतरते समय अचानक एक तीव्र मोड़ हुआ, जिससे बस का चालक नियंत्रण खो बैठा और खाई में गिर गया।

हो गया था हादसे का आभास

कल्पना रावत ने कहा कि बस की इतनी तेज गति से उन्हें लग गया कि कुछ बुरा होने वाला था। ऐसा सोचते ही पलक झपकते ही सीधे सड़क से खाई में जा गिरी। गनीमत रही कि सिर्फ पेड़ पर गिर पड़ी। बस पेड़ पर नहीं अटकती तो शायद कोई बचता नहीं। बस को सैंज भटवाड़ी पहुँचना था। घटनास्थल से 18 किमी दूर था। बस को सैंज पहुंचने से पहले ही दुर्घटना हुई।

हादसे वाले दिन ही बस में सवार हुए थे लीलाधर
हादसे में घायल मोहनचंद्र ने बताया कि बस में दो सीटें खाली थीं। लीलाधर पांडेय हादसे वाले दिन दूसरी बस से अपनी बस में सवार हुए थे। लीलधर को सिर में गंभीर चोट लगी है। वे ऋषिकेश एम्स भेजे गए हैं।

साथियों ने स्थगित की यात्रा

कल्पना रावत ने बताया कि उनके साथ 72 लोग चारधाम यात्रा पर आए थे। जो दो बसों में सवार हो गए। लेकिन दुर्घटना के बाद अन्य यात्रियों ने भी यात्रा को रद्द कर दिया है। कल्पना रावत ने बताया कि अब हादसे के बाद उनका कोई भी साथी यात्रा नहीं करना चाहता है। गंगोत्री व यमुनोत्री के दर्शन के बाद उन्हें केदारनाथ जाना था।

कुछ घायल यात्रियों ने सुबह चार बजे गंगोत्री धाम के लिए प्रस्थान करने की बात कही थी। तीन बजे रात प्रस्थान करना तो बहुत जल्दी है। ऐसा कुछ है तो इसकी जांच की जाएगी।

– अर्पण यदुवंशी, एसपी उत्तरकाशी।