Home उत्तराखंड संत जोध सिंह महाराज ने बढाई निर्मल दीपमाला स्कूल के अलंकरण समारोह...

संत जोध सिंह महाराज ने बढाई निर्मल दीपमाला स्कूल के अलंकरण समारोह की शोभा

41
0
निर्मल दीपमाला स्कूल के सभागार में आज अलंकरण दिवस का आयोजन किया गया। जिसमें वर्तमान शैक्षिक सत्र में नवचयनित विद्यार्थी प्रतिनिधियों को निष्ठा से कर्तव्य का निर्वाह करने की शपथ दिलाई गई। इस अवसर पर विद्यालय के व्यवस्थापक संत जोध सिंह जी महाराज ने स्वयं अपना शुभ आशीर्वाद दिया जिससे अलंकरण समारोह की शोभा बढ़ गई तथा विद्यार्थियों में सकारात्मक ऊर्जा का संचार हुआ। विद्यालय की प्रधानाचार्या ललिता कृष्णास्वामी  ने कार्यक्रम में उपस्थित अतिथियों का हार्दिक अभिनंदन किया। विद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा अतिथियों को पुष्पगुच्छ भेंट कर उनका स्वागत किया गया।
कार्यक्रम का शुभारंभ हमारी सभ्यता और संस्कृति की अलौकिकता का प्रतीक दीप प्रज्वलित कर किया गया। मूल मंत्र ,गायत्री मंत्र तथा शब्द गायन द्वारा ईश्वर का आह्वान कर नकारात्मक शक्तियों का नाश करने और सात्विक ऊर्जा का प्रसार करने हेतु प्रार्थना की गई। शपथ ग्रहण समारोह की शुरुआत संत जोध सिंह जी महाराज एवं अतिथियों के समक्ष नवचयनित टीम द्वारा कदम से कदम मिलाकर परेड द्वारा हुई। तत्पश्चात सभी चयनित विद्यार्थियों को विद्यालय की प्रधानाचार्या ललिता कृष्णास्वामी ने विद्यालय के प्रति उनके कर्तव्यों और जिम्मेदारियों की शपथ दिलाई। विद्यार्थियों ने भी पूर्ण मनोबल के साथ दायित्वों का निर्वाह पूर्ण निष्ठा एवं लगन से करने की शपथ ली ।
नवनिर्वाचित छात्र प्रतिनिधियों में स्कूल कप्तान आकाश बहुगुणा, दीप्ति पोखरियाल, उपकप्तान निखिल रावत, ऋतु रतूड़ी, खेल कप्तान सिद्धार्थ श्रीधर, समृद्धि बडोनी, साहित्यिक कप्तान शरण सोंधी, श्रेष्ठा सेमवाल, सांस्कृतिक कप्तान जाह्नवी सिंह और विद्यालय के चारों सदनों ध्रुव, एकलव्य, अभिमन्यु व नचिकेता के विभिन्न पदों के लिए चयनित सदन के सभी पदाधिकारियों ( कप्तान, उप कप्तान, खेल कप्तान ,साहित्यिक कप्तान) को बैच एवं सैशे प्रदान कर सम्मानित किया गया ।
इस अवसर पर निर्मल ज्ञान दान अकादमी में 8 मई ,2024 को आयोजित हुई सी.बी.एस.ई. सहोदय इंटर स्कूल ग्रुप डांस प्रतियोगिता जिसका विषय था ‘लोक एंड क्लासिकल फ्यूजन डांस’ में 16 स्कूलों में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले एन.डी.एस स्कूल के प्रतिभागियों को भी पुरस्कृत किया गया। विद्यार्थी प्रतिनिधियों को बधाई देते हुए अपने ओजस्वी वक्तव्य में विद्यालय के चेयरमैन डॉ. एस.एन. सूरी जी ने कहा कि छात्रों के भीतर कर्तव्यबोध, अपने दायित्वों के निर्वाह के लिए जीवन की प्रथम सीढ़ी है।
अपने कर्तव्यों के प्रति सजग एवं अनुशासन में रहने का आह्वान करते हुए विद्यालय की शैक्षिक सलाहकार रेनू सूरी ने कहा कि ईमानदारी और सत्य की राह निश्चित रूप से कठिनाइयों से भरी होती है किंतु उसमें कामयाबी उसी को मिलती है जो सच्चाई और साहस से उसका सामना करता है। विद्यालय के व्यवस्थापक संत जोध सिंह जी महाराज ने अतिथियों को आदर व सम्मान का प्रतीक सिरोपा तथा विद्यालय का स्मृति चिह्न भेंट किया । विद्यालय की प्रधानाध्यापिका  नीरू अरोड़ा ने इस अवसर पर पधारे अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया तथा नवचयनित विद्यार्थी प्रतिनिधियों को नेतृत्व क्षमता दिखाने के लिए प्रोत्साहित करते हुए शुभकामनाएँ दीं।
इस आयोजन पर विद्यालय के चेयरमैन डॉ. एस.एन. सूरी जी विद्यालय की शैक्षिक सलाहकार रेनू सूरी, एन.जी.ए की प्रधानाचार्या सुनीता शर्मा, प्रधानाध्यापिका अमृतपाल डंग तथा सदनों के संरक्षक (प्रिसेप्टर्स) आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रीय गान के साथ हुआ।