Home उत्तराखंड एनडीएस की ड्राइंग एंड पेंटिंग प्रतियोगिता में सीबीएसई सहोदय ग्रुप ने किया...

एनडीएस की ड्राइंग एंड पेंटिंग प्रतियोगिता में सीबीएसई सहोदय ग्रुप ने किया प्रतिभाग

33
0

ऋषिकेश। निर्मल आश्रम दीपमाला पब्लिक स्कूल में सीबीएसई सहोदय ग्रुप ने अंतर्विद्यालयीय ड्राइंग एंड पेंटिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इसमें ग्रुप ए के कक्षा 9 से 12 एवं ग्रुप बी के कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया।

निर्मल आश्रम दीपमाला पब्लिक स्कूल में सीबीएसई सहोदय ग्रुप द्वारा आयोजित अंतर्विद्यालयीय ड्राइंग एंड पेंटिंग प्रतियोगिता का मुख्य अतिथि जाकिर हुसैन एवं हेमंत पुंडीर, विशिष्ट अतिथि सुमिति कपूर एवं श्री सुधीर कपूर, विद्यालय के चेयरमैन डॉ एस एन सूरी, सलाहकार रेनू सूरी ने सयुंक्त रूप से दीप प्रज्वलन कर किया। इस प्रतियोगिता में ग्रुप ए के कक्षा 9 से 12 एवं ग्रुप बी के कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया। ग्रुप ए के विद्यार्थियों ने ‘पृथ्वी और स्थिरता’ अथवा ‘ विशेष रूप से सक्षम व्यक्तियों की आवाज’ विषय पर अपनी कला का प्रदर्शन किया। ग्रुप बी के विद्यार्थियों ने ‘उत्तराखंड की परंपराएं’ अथवा डिजिटल सशक्तिकरण’ विषय पर अपनी कल्पना के रंग बिखेरे। इस प्रतियोगिता में कुल 18 विद्यालयों के प्रतिभागियों ने प्रतिभाग कर अपनी कल्पनाओं प्रदर्शित की। प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल के रूप में मुख्य अतिथि जाकिर हुसैन एवं युवा कलाकार हेमंत पैन्यूली मौजूद रहे।

बता दें कि दोनों कलाकारों ने कला के प्रति अपने जुनून को ही अपना शिक्षक बनाकर अपनी प्रतिभा को निखारा है।जाकिर हुसैन जाने-माने कलाकार हैं, जिन्होंने देश-विदेश में कला के माध्यम से अपनी अनूठी पहचान बनाई है। इन्होंने विद्यार्थियों के उत्साह वर्धन हेतु अपनी कला की साक्षात प्रस्तुति भी दी। साथ ही छात्र-छात्राओं के लिए प्रेरणा स्रोत बने। जाकिर हुसैन ने प्रादेशिक एवम् राष्ट्रीय दोनो स्तरों पर अपनी कलाओं का सफल प्रदर्शन किया है। उत्तराखंड सरकार, कला महोत्सव तथा ऑल इंडिया आर्ट कंटेंपरेरी प्रदर्शनी, हरिद्वार आदि विभिन्न संस्थाओं द्वारा इन्हें सम्मानित किया गया। इनकी पेंटिंग्स ‘नेशनल रिसर्च इंस्टिट्यूट ऑफ़ ह्यूमन कल्चर’ एवं ‘गंगा राष्ट्रीय म्यूजियम’ के लिए भी चयनित हुई है।

वहीं, युवा कलाकार हेमंत पैन्यूली ने उत्तराखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी से मैकेनिकल इंजीनियर में बी.टेक.की डिग्री प्राप्त कर कला के रूप में अपनी पहचान बनाई। उनकी बनाई पेंटिंग्स हमें अपनी संस्कृति की जड़ों की ओर लौटने को प्रेरित करती है। अपनी कला के माध्यम से अनेक पुरस्कार भी अर्जित किए। निर्णायक मंडल द्वारा परिणाम घोषित होने पर ग्रुप ए में सिमरन ढौंडियाल (फुट हिल्स) अपराजिता चंद्र (डी.एस.बी.) गौरी पुंडीर (दून हेरिटेज )एवं आराधना कपरुवान (होराइजन पब्लिक स्कूल) ने क्रमशः प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं सांत्वना पुरस्कार प्राप्त किया ।
ग्रुप बी में इशिता नौटियाल (डी.एस.बी.) आराध्या पडियार (रेड फोर्ट) मुस्कान (हैप्पी होम) तथा आकृति सजवान (एन.जी.ए) एवं इशिता चौहान (दून इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल ) ने क्रमशः प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं सांत्वना पुरस्कार प्राप्त कर अपने विद्यालय का गौरव बढ़ाया । सभी विजेता कलाकारों को पुरस्कार व सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया ।

‘उल्लास फाउंडेशन’ से हिमानी, शिवानी, सलोनी, अभिषेक एवं आशीष ने भी अपनी ओर से प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कृत किया। प्रतियोगिता के अंत में अपने ओजस्वी वक्तव्य में श्री जाकिर हुसैन जी ने विद्यार्थियों को रंगों से खेलने के लिए प्रेरित किया तथा बताया कि कलाकार की संवेदनशीलता समाज के लिए वरदान साबित होती है। कला, संगीत एवम् साहित्य के बिना जीवन नीरस है। श्री हेमंत पैन्यूली जी ने कला की महिमा बताते हुए इस क्षेत्र में बच्चों के उज्जवल भविष्य की कामना की ।

इस अवसर पर विद्यालय के चेयरमैन डॉ. एस.एन. सूरी जी ने मुख्य अतिथि के रूप में श्री जाकिर हुसैन एवं श्री हेमंत पैन्यूली जी को आदर व सम्मान का प्रतीक सिरोपा व विद्यालय का स्मृति चिन्ह भेंट किया । विशिष्ट अतिथि के रूप में श्रीमती सुमति कपूर एवं श्री सुधीर कपूर जी को भी आदर व सम्मान का प्रतीक सिरोपा एवं विद्यालय का स्मृति चिन्ह भेंट किया गया । कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापित करते समय विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती ललिता कृष्णा स्वामी ने विद्यार्थियों को कला के माध्यम से आत्मा की संतुष्टि की ओर प्रेरित किया। प्रतियोगिता के सफल आयोजन हेतु एन.डी.एस. की टीम के साथ-साथ विद्यालय की प्रधानाचार्या ललिता कृष्णा स्वामी एवं कला शिक्षिका रंजना शर्मा ने अपना विशेष सहयोग दिया।