Home उत्तराखंड Kainchi Mela: दो दिन बाद कैंची धाम में भव्य मेला होगा, पुलिस...

Kainchi Mela: दो दिन बाद कैंची धाम में भव्य मेला होगा, पुलिस ने ट्रैफिक योजना जारी की; इन मार्गों पर जाएं

15
0

15 जून को विश्व प्रसिद्ध कैंची धाम के स्थापना दिवस को मनाने के लिए जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने पूरी तरह से तैयारियां कर ली हैं। पुलिस ने मेले को लेकर एक विशेष यातायात योजना बनाई है। 14 जून को दोपहर दो बजे से लागू होगा। भवाली पेट्रोल पंप से कैंची पनीराम ढाबा क्षेत्र जीरो जोन बन जाएगा। क्वारब से गुजरने वाले रामगढ़ और भीमताल मार्ग से हल्द्वानी की ओर पहाड़ से जाने वाले वाहनों को भेजा जाएगा। पुलिस ने भीमताल और भवाली में पार्किंग सहित शटल सेवा को भी योजना बनाया है।

बुधवार को एसपी यातायात व अपराध हरबंश सिंह ने अधिकारियों को बुलाया। योजना के अनुसार, उन्होंने अधिकारियों को सख्ती से यातायात नियमों का पालन करने का आदेश दिया। पत्रकारों से बातचीत में एसपी ने बताया कि मेले के लिए यातायात योजना के साथ ही चौबीस पार्किंग स्थल चुने गए हैं। कैंची धाम जाने वाले वाहनों को पार्क करने के लिए पार्किंग स्थल सेनेटोरियम से रातीघाट, मस्जिद तिराहे से नैनीबैंड, रामलीला मैदान भवाली, भीमताल के विकासभवन मैदान और मत्स्य विभाग के समीप बनाए गए हैं।

यह रहेगा प्लान

  • अल्मोड़ा, बेतालघाट, रानीखेत, खैरना से हल्द्वानी जाने वाले वाहनों को क्वारब से शीतला, धानाचूली खुटानी होते हुए भीमताल को भेजा जाएगा।
  • हल्द्वानी से अल्मोड़ा व पहाड़ को जाने वाले वाहनों को खुटानी से धानाचूली होते हुए भेजा जाएगा।
  • भवाली से दिल्ली, हरियाण, यूपी, काशीपुर, बाजपुर जाने वाले वाहन वाया ज्योलीकोट रुसी से होते हुए कालाढूंगी मार्ग से जायेंगे।
  • रामनगर कालाढूंगी से कैंचीधाम जाने वाले वाहन रुसी ज्योलीकोट होते हुए मस्जिद तिराहा भवाली तक जाएंगे।
  • भवाली से नैनीताल आने वाले वाहन ज्योलीकोट नंबर एक बैंड से रुसी होते हुए नैनीताल आयेंगे।
  • नैनीताल से दिल्ली, हरियाणा, यूपी व अन्य मैदानी क्षेत्र को जाने वाले पर्यटक कालाढूंगी मार्ग से जायेंगे।
  • कालाढूंगी से नैनीताल आने वाला यातायात रुसी से होते हुए आयेगा।
  • नारायण नगर से आगे वाहनों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा, जहां से शटल सेवा के माध्यम से ही लोगों को नैनीताल भेजा जाएगा।

यह रहेगी पार्किंग की स्थिति

  • ज्योलीकोट व नैनीताल की ओर से भवाली आने वाले वाहनों को मस्जिद तिराहा से नैनी बैंड बाइपास, सेनेटोरियम से रातीघाट बाइपास व मस्जिद तिराहे से नैनीताल रोड में एक तरफ पार्क करवाया जाएगा।
  • भीमताल की ओर से आने वाले वाहनों को रामलीला मैदान भवाली, नैनी बैड से मस्जिद तिराहा बाइपास, विकास भवन मैदान भीमताल, ग्राफिक एरा मैदान व भीमताल थाने व मत्स्य विभाग के समीप पार्क कराया जाएगा।
  • दोपहिया वाहनों को भारत माता पार्किंग भवाली, परिवहन निगम की चौराहे पर स्थित पार्किंग, सेनेटोरियम, पेट्रोल पंप, जीबी पंत स्कूल के समीप पार्किंग में पार्क करवाया जाएगा।कैंची धाम में हर साल श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ती जाती है। इसके विपरीत, पार्किंग, सड़क सुविधाएं और अन्य सुविधाएं सीमित हैं। कैंची धाम में सिर्फ 200 वाहनों की जगह है। ऐसे में श्रद्धालुओं को शटल सेवा के माध्यम से प्रस्थान प्वाइंट पर रोक दिया जाता है।

इस बार यह रहेगी व्यवस्था

15 जून तक, प्रशासन ने 14 स्थानों को भवाली और गर्मपानी में 1500 से अधिक छोटे बड़े वाहनों को पार्किंग करने के लिए चिह्नित किया है। नैनीबैंड बाईपास, भवाली मैदान और रानीखेत रोड पर वाहनों को पार्क किया जाएगा जो भवाली, भीमताल और हल्द्वानी से आते हैं। नैनीताल, ज्योलीकोट और अन्य स्थानों से आने वाले वाहनों को सेनिटोरियम बाईपास, मस्जिद तिराहा में पार्क कर शटल सेवा से कैंचीधाम भेजा जाएगा। साथ ही रानीखेत, अल्मोड़ा से आने वाले वाहनों को गरमपानी में पार्क कर शटल से पनीराम के ढाबे भेजा जाएगा।

  • जाम से निजात पाने के लिए वैकल्पिक मार्ग बनाया जा रहा है जो भवाली में नैनीबैंड से सेनिटोरियम होते हुए रातीघाट पाटली तक जाएगा, लेकिन इसके तैयार होने में अभी समय लगेगा।
  • प्रदेश सरकार ने मानसखंड के तहत कैंची धाम क्षेत्र को विकसित करने की योजना बनाई है। इसके तहत कैंचीधाम में 400 वाहनों की पार्किंग के लिए जगह का चयन किया गया है।
  • इसके अलावा भवाली में तीन जगह पार्किंग बनाई जा रही है, जिनकी कुल वाहन क्षमता करीब 1000 है।